(Himanad Jal Pawan) हिमनद जल तथा पवनों द्वारा न‍िर्मित स्थल भूगोल Part-3

Geography GK TEST

हिमनद जल तथा पवनों(Himanad jal pawan) द्वारा न‍िर्मित स्थल भूगोल Part-3 के इस पोस्‍ट में भू-आकृतियों जैसे जल द्वारा , वायु द्वारा तथा हिम द्वारा बने हुये स्‍थलाकृतियों की चर्चा करेंगे।
भू- आकृतिक कारक अपरदन व न‍िक्षेपण में सक्षम हैं, अत: अपरदित और न‍िक्षेपित, दो प्रकार के स्‍थलरूपों का न‍िर्माण होता है।

हिमनद जल तथा पवनों द्वारा न‍िर्मित स्थल भूगोल

जल द्वारा न‍िर्मित स्थल

1. गॉर्ज और कैन‍ियन क्‍या होते हैं।
उत्तर- गॉर्ज एक गहरी संकरी घाटी है जिसके दोनों पार्श्‍व तीव्र ढाल के होते हैं। एक कैन‍ियन के किनारे भी खड़ी ढाल वाले होते हैं और यह भी गॉर्ज की ही भॉंति गहरी होती है। गॉर्ज की चौड़ाई इसके तल व ऊपरी भाग में लगभग एक समान होती है। इसके विपरीत, एक कैन‍ियन तल की अपेक्षा ऊपरी भाग अधिक चौड़ा होता है।

2. कैन‍ियन और गॉर्ज का न‍िर्माण किन चट्टानों से हुआ है।
उत्तर- कैन‍ियन का न‍िर्माण प्राय: अवसादी चट्टानों के क्षैतिज स्‍तरण में पाए जाने से होता है तथा गॉर्ज कठोर चट्टानों में बनता है।

3. नदी वेदिकाऍं(River altars) क्‍या हैं।
उत्तर- ये प्रारंभिक बाढ़ मैदानों या पुरानी नदी घाटियों के तलों के चिन्‍ह हैं। ये जलोढ़ रहित मूलाधार चट्टानों के धरातल या नदियों के तल हैं जो न‍िक्षेपित जलोढ़ वेदिकाओं के रूप में पाए जाते हैं।

4. जलोढ़ पंख का न‍िर्माण कैसे होता है।
उत्तर- जब नदी उच्‍च स्‍थलों से बहती हुई गिरिपद व मंद ढाल के मैदानों में प्रवेश करती है तो जलोढ़ पंख का न‍िर्माण होता है। मंद ढालों पर नदियॉं यह भार वहन करने में असमर्थ होती हैं तो यह शंकु के आकार में हो जाता है जिसे जलोढ़ पंख कहा जाता है।

5. डेल्‍टा का न‍िर्माण कैसे होता है।
उत्तर- यह भी जलोढ़ पंखों की ही भाँति होते हैं, लेकिन इनके विकसित होने का स्‍थान भिन्‍न होता है। डेल्‍टा का न‍िक्षेप जलोढ़ पंखों के विपरित व्‍यवस्थित होता है। मोटे पदार्थ तट के न‍िकट व बारीक कण जैसे- चीका मिट्टी, गाद आदि सागर में दूर तक जमा हो जाता है।

6. नदि रोधिकाऍं कैसे बनती हैं।
उत्तर- ये प्रवाहित जल द्वारा लाए गए तलछटों के नदी किनारों पर न‍िक्षेपण के कारण बनी हैं।

7. नदी विसर्प(Meanders) क्‍या होता है।
उत्तर- बाढ़ व डेल्‍टाई मैदानों पर लूप जैसे चैनल विकसित होते हैं-जिन्‍हे विसर्प कहा जाता है।

8. गोखूर झील कैसे बनता है।
उत्तर- विसर्पों के गहरे छल्‍ले के आकार में विकसित हो जाने पर ये अंदरूनी भागों पर अपरदन के कारण कट जाते हैं और गोखुर झील बन जाती है।

9. गुम्फित नदी कैसे बनती है।
उत्तर- मुख्‍य जलधारा का कई भागों में बंट जाना गुम्फित नदी कहलाता है। इसके लिए तटों पर अपरदन व न‍िक्षेप आवश्‍यक है।

हिमनद द्वारा न‍िर्मित स्थल

10. स्‍टैलेक्‍टाइट, स्‍टैलेग्‍माइट और स्‍तंभ क्‍या हैं।
उत्तर- स्‍टैलेक्‍टाइट व‍िभिन्‍न मोटाइयों के लटकते हुए हिमस्‍तंभ जैसे होते हैं। प्राय: ये आधार पर या
कंदरा की छत के पास मोटे होते हैं और अंत के छोर पर पतले होते जाते हैं।
स्‍टैलेग्‍माइट कंदराओं के फर्श से ऊपर की तरफ बढ़ते हैं। वास्‍तव में स्‍टैलेग्‍माइट कंदराओं की छत
से धरातल पर टपकने वाले चूनामिश्रित जल से बनते हैं।
स्‍टैलेग्‍माइट एक स्‍तंभ के एक चपटी तश्‍तरीनुमा आकार में या समतल अथवा क्रेटरनुमा गड्ढे के
आकार में विकसित हो जाते हैं। विभिन्‍न मोटाई के स्‍टैलेग्‍माइट तथा स्‍टैलेक्‍टाइट के मिलने से स्‍तंभ
और कंदरा स्‍तंभ बनते हैं।

विशेष- उद्गम गंगोत्री हिमनद का अग्रभाग(गोमुख) है। वास्‍तव में अलकनंदा नदी का उद्गम अलकापुरी हिमनद से है। देवप्रयाग के न‍िकट अलकनंदा व भगीरथी के मिलने पर यहॉं से इसे गंगा के नाम से जाना जाता है।

11. सर्क क्‍या होता है।
उत्तर- हिमनद द्वारा बना होता है यह, सर्क गहरे लंबे व चौड़े गर्त हैं जिनकी दीवार तीव्र ढाल वाली सीधी या अवतल होती है।

12. हिमनद घाटी किस आकार की होती हैं।
उत्तर- यह ‘U’ आकार की होती है।

13. फियोर्ड किसे कहा जाता है।
उत्तर- बहुत गहरी हिमनद गर्तें जिनमें समुद्री जल भर जाता है तथा जो समुद्री तटरेखा पर होती हैं, उन्‍हें फियोर्ड कहते हैं।

14. हिमोढ़ किसे कहा जाता है।
उत्तर- हिमनद टिल के जमाव की लंबी कटकें हिमोढ़ कहलाती हैं।

15. एस्‍कर क्‍या होते हैं।
उत्तर- हिमनद की जलधारा अपने साथ बड़े गोलाश्‍म, चट्टानी टुकड़े और छोटा चट्टानी मलबा
बहाकर लाती है जो हिमनद के नीचे इस बर्फ की घाटी में जमा हो जाते हैं। ये बर्फ पिघलने के बाद
एक वक्राकार कटक के रूप में मिलते हैं, जिन्‍हें एस्‍कर कहते हैं।

16. ड्रमलिन क्‍या होते हैं।
उत्तर- ये हिमनद मृत्तिका के अंडाकार समतल कटकनुमा स्‍थलरूप हैं जिसमें रेत व बजरी के ढेर होते हैं। ड्रमलिन का न‍िर्माण हिमनद दरारों में भारी चट्टानी मलबे के भरने व उसके बर्फ के नीचे रहने से होता है। इसका अग्र भाग स्‍टॉस कहलाता है। ड्रमलिन हिमनद प्रवाह दिशा को बताते हैं।

Himanad Jal Pawan
For More GK Test
General Knowledge Test 38
Amazing Facts About World | विश्‍व सामान्‍य ज्ञान
General Knowledge Test 40

पवनों द्वारा अपरदन


17. पेडीमेंट क्‍या होते हैं।
उत्तर- पर्वतों के पाद पर मलबे रहित अथवा मलबे सहित मंद ढाल वाले चट्टानी तल पेडीमेंट
कहलाते हैं। इसका न‍िर्माण पर्वतीय अग्रभाग के अपरदन मुख्‍यत: नदी के क्षैतिज अपरदन व चादर
बाढ़ दोनों के संयुक्‍त अपरदन से होता है।

18. प्‍लाया क्‍या होता है।
उत्तर- उथली जल झीलें ही प्‍लाया कहलाती हैं। इसमें अधिकतर लवणों के समृद्ध न‍िक्षेप पाए जाते हैं। प्‍लाया मैदान, जो लवणों से भरें हों, क्षारीय क्षेत्र या कल्‍लर भूमि कहलाते हैं।

19. छत्रक क्‍या होता है।
उत्तर- यह पवनों द्वारा न‍िर्मित होता है ये मरूस्‍थलीय चट्टानों पर गोल, टोपी के आकार के होते हैं।

20. बालू-टिब्‍बे(Sand dunes) का न‍िर्माण कैसे होता है।
उत्तर- यह भी पवनों द्वारा न‍िर्मित होता है। इसके लिए शुष्‍क मरूस्‍थल उपयुक्‍त स्‍थान है। ये कई
प्रकार के होते हैं।

21. बरखान क्‍या होता है।
उत्तर- यह अर्द्धचंद्राकार आकार के टिब्‍बे जिनकी भुजाऍं पवनों की दिशा में न‍िकली होती हैं बरखान कहलाते हैं।

Himanad jal pawan द्वारा न‍िर्मित स्थल भूगोल
If you want to learn Science then you can visit
भौतिक विज्ञान 1500 प्रश्न उत्तर Part 4 – GK GK General Knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *