questions on diversity in living organisms

Questions on Diversity in Living Organisms Biology| जीवों में विविधतता Part-13

Biology GK TEST

इस सीरिज में हम questions on diversity in living organisms से संबंधित प्रश्‍न उत्‍तर की श्रृंखला लायें हैं। इसमे लगभग सभी प्रश्‍नो को कवर करने की कोशिश की गयी है।

Questions on Diversity in Living Organisms

1. किन-किन वैज्ञान‍िकों ने जगत किंगडम में विभाजित करने का प्रयास किया था।
उत्‍तर- अर्न्‍सट हेकेल, राबर्ट व्हिटेकर और कार्ल वोस ने।

2. विभिन्‍न स्‍तरों पर जीवों को उप समूहों में वर्गीकृत करें।
उत्‍तर- नीचे दिए गए इमेज में इसका हल है-

Questions on Diversity in Living Organisms
Classification

3. व्हिटेकर द्वारा प्रस्‍तावित वर्गीकरण में कितने किंगडम जगत हैं।
उत्‍तर- 5. मोनेरा, प्रोटिस्‍टा, फंजाई, प्‍लांटी और एनीमेलिया।

4. कार्ल वोस ने मोनेरा जगत को किसमें बांटा था।
उत्‍तर- आर्कीबैक्‍टीरिया और यूबैक्‍टीरिया में

5. मोनेरा जगत की विशेषता क्‍या है।
उत्‍तर- इन जीवों में ना तो संगठित केंद्रक और कोशिकांग होते हैं और न ही उनके शरीर बहुकोशिक होते हैं। पोषण के स्‍तर पर ये स्‍वपोषी अथवा विषमपोषी दोनों हो सकते है। उदाहरण- जीवाणु, नील-हरित शैवाल अथवा सायनोबैक्‍टीरिया, माइकोप्‍लाज्‍मा।

6. प्रोटिस्‍टा जग‍त की विशेषता क्‍या है।
उत्‍तर- इसमें एककोशिक, यूकैरियोटीक जीव आते हैं। ये भी स्‍वपोषी और विषमपोषी दोनों तरह के होते हैं। उदाहरण- एककोशिक शैवाल, डाइएटम, प्रोटोजोआ इत्‍यादि।

7. फंजाई क्‍या होते हैं।
उत्‍तर- ये विषमपोषी यूकैरियोटीक जीव होते हैं। ये पोषण के लिए सड़े गले कार्बन‍िक पदार्थों पर न‍िर्भर रहते हैं, इसलिए इन्‍हें मृतजीवी कहा जाता है। उदाहरण- यीस्‍ट, मशरूम।

8. फंजाई अथवा कवक में किस प्रकार की कोशिका भित्ति पायी जाती है।
उत्‍तर- काइटिन नामक जटिल शर्करा की बनी कोशिका भित्ति पायी जाती है।

9. लाइकेन क्‍या होता है।
उत्‍तर- कवकों की कुछ प्रजातियां साइनोबैक्‍टीरिया के साथ स्‍थायी अंतर्संबंध बनाती है, जिसे सहजीविता कहते हैं। ऐसे सहजीवी जीवों को लाइकेन कहा जाता है। ये लाइकेन अक्‍सर पेड़ों की छालों पर रंगीन धब्‍बों के रूप में दिखाई देते हैं।

Questions on Diversity in Living Organisms

10. प्‍लांटी जगत क्‍या हैं।
उत्‍तर- इसमें बहुकोशिक यूकैरियोटी जीव आते हैं। ये स्‍वपोषी होते हैं और प्रकाश-संश्‍लेषण के लिए क्‍लोरोफिल का प्रयोग करते हैं। इस वर्ग में सभी पौधों को रखा गया है।

11. एन‍िमेलिया जगत कौन से हैं।
उत्‍तर- ऐसे सभी बहुकोशिक यूकैरियोटी जीव आते हैं, जिनमें कोशिका भित्ति नहीं पाई जाती है। इस वर्ग के जीव विषमपोषी होते हैं।

12. नग्‍न बीज उत्‍पन्‍न करने वाले पौधे को क्‍या कहते हैं।
उत्‍तर- जिम्‍नोस्‍पर्म (यह शब्‍द दो ग्रीक शब्‍दों जिम्‍नों तथा स्‍पर्मा से मिल कर बना है, जिसमे जिम्‍नों का मतलब है नग्‍न तथा स्‍पर्मा का मतलब है बीज अर्थात नग्‍नबीजी पौधे। उदाहरण- पाइनस तथा साइकस

13. फल के अंदर बीज उत्‍पन्‍न करने वाले पौधे को क्‍या कहते हैं।
उत्‍तर- एंजियोस्‍पर्म (यह दो ग्रीक शब्‍दों एंजियो और स्‍पर्मा से मिलकर बना है। एंजियो का मतलब है ढका हुआ और स्‍पर्मा का मतलब है बीज अर्थात पौधों के बीज फलों के अंदर ढके होते हैं। इन्‍हे पुष्‍पी पादप भी कहा जाता है। )

More Questions on Diversity in Living Organisms

14. बीजपत्रों के आधार पर एंजियोस्‍पर्म वर्ग को कितने भागों में बांटा गया है।
उत्‍तर- दो भागों में, एक बीजपत्र वाले पौधों को एकबीजपत्री और दो बीजपत्र वाले पौधों को द्विबीजपत्री कहा जाता है।

15. पोरीफेरा किस जगत में आते हैं।
उत्‍तर- ये एन‍िमेलिया जगत में आते हैं, इनका शरीर कठोर आवरण अथवा वाह्य कंकाल से ढका होता है। इसमे अधिकतर समुद्री जीव आते हैं उदाहरण- साइकॉन, यूप्‍लेक्‍टोला, स्‍पांजिला आदि।

16. सीलेंटरेटा किस जगत का है और इसके उदाहरण क्‍या हैं।
उत्‍तर- ये जलीय जंतु हैं और ये भी एन‍िमेलिया जगत में आते हैं। उदाहरण- हाइड्रा, समुद्री एनीमोन, जेलीफिश इत्‍यादि।

17. प्‍लेटीहेल्मिन्‍थीज और न‍िमेटोडा किस जगत से संबंधित हैं।
उत्‍तर- ये भी एन‍िमेलिया जगत में आते हैं। न‍िमेटोडा अधिकांशत: परजीवी होते हैं। परजीवी के तौर पर ये दूसरे जंतुओं में रोग उत्‍पन्‍न करते है। उदाहरण- गोल कृमि, फाइलेरिया कृमि, पिन कृमि इत्‍यादि।

18. एनीलिडा जंतु का उदाहरण है….
उत्‍तर- इनमें संवहन, पाचन, उत्‍सर्जन और तंत्रिका तंत्र पाये जाते हैं। उदाहरण- केंचुआ, नेरीस, जोंक इत्‍यादि।

19. आर्थ्रोपोडा की विशेषता बतायें।
उत्‍तर- यह जंतु जगत का सबसे बड़ा संघ है। इनमें खुला परिसंचरण तंत्र पाया जाता है। उदाहरण- झींगा, तितली, मक्‍खी, मकड़ी, बिच्‍छू, केकड़े इत्‍यादि।

Important Questions and Answers

Tissue Questions And Answer Biology|ऊतक Part-12
Questions On Periodic Table In Hindi Chemistry Part-11
What Is Meteoroids (उल्‍कापिंड क्‍या है)
Amazing Facts In The World दुनिया के कुछ रोचक तथ्‍य
Rochak Tathya कुछ रोचक तथ्‍य

Questions on Diversity in Living Organisms
20. मोलस्‍का संघ की विशेषता क्‍या है।
उत्‍तर- अधिकांश मोलस्‍का जंतुओं में कवच पाया जाता है। इनमें खुला संवहनी तंत्र तथा उत्‍सर्जन के लिए गुर्दे जैसी संरचना पाई जाती है। उदाहरण- घोंघा, सीप इत्‍यादि।

21. इकाइनोडर्मेटा संघ के बारे में बताए…..
उत्‍तर- इन जंतुओं की त्‍वचा कांटों से आच्‍छादित होती है। ये मुक्‍तजीवी समुद्री जंतु हैं। इनमें कैल्शियम कार्बोनेट का कंकाल एवं कांटे पाए जाते हैं। उदाहरण- स्‍टारफिश, समुद्री अर्चिन इत्‍यादि।

22. प्रोटोकॉर्डेटा संघ के बारे में बतायें, ये क्‍या हैं।
उत्‍तर- इन जंतुओं में नए लक्षण पाये जाते हैं जैसे- नोटोकार्ड, हालांकि इन जंतुओं में जीवन की सभी अवस्‍थाओं में नोटोकॉर्ड नहीं उपस्थित रह सकता है। ये समुद्री जंतु हैं। उदाहरण- बैलैनाग्‍लोसस, हर्डमेन‍िया, एम्फियोक्‍सस इत्‍यादि।
विशेष- नोटोकॉर्ड का म‍तलब जंतुओं के पीछे वाले भाग में पाया जाता है। यह तंत्रिका तंत्र को आहार नाल से अलग करती है।

23. वर्टीब्रेटा संघ क्‍या है।
उत्‍तर- इन जंतुओं में वास्‍तविक मेरूदंड और अंत:कंकाल पाया जाता है।

Vertebrates

Questions on Diversity in Living Organisms
24. कशेरूकी (Vertebrates) को कितने वर्गों में बांटा गया है।
उत्‍तर- इन्‍हें पांच वर्गों में बांटा गया है। मत्‍स्‍य, एम्फिबिया, सरीसृप, पक्षी और स्‍तनपायी

मत्‍स्‍य-
ये मछलियां हैं, जो समुद्र और मीठे जल दोनों जगहों पर पायी जाती है। इनकी त्‍वचा शल्‍क (Scales) अथवा प्‍लेटों से ढकी होती है।इनमें श्‍वसन के लिए क्‍लोम पाए जाते हैं, जो जल में विलीन ऑक्‍सीजन का उपयोग करते हैं। ये असमतापी होते हैं तथा इनका ह्रदय द्विकक्षीय होता है।
ये अंडे देती हैं।
विशेष- कुछ मछलियों में कंकाल केवल उपास्थि का बना होता है, जैसे- शार्क।
और अन्‍य मछलियों में कंकाल अस्थि का बना होता है, जैसे- ट्यूना, रोहू।


जल-स्‍थलचर (Amphibians)-
इनमें शल्‍क(Scales) नही पाए जाते। इनकी त्‍वचा पर श्‍लेष्‍म ग्रंथियां पाई जाती है। इनका ह्रदय त्रिकक्षीय होता है। इनमें श्‍वसन क्‍लोम अथवा फेफड़ों द्वारा होता है। ये जल तथा स्‍थल दोनो पर रह सकते हैं, जैसे- मेंढक, सैलामेंडर, टोड इत्‍यादि।


सरीसृप (Reptiles)
ये असमतापी जंतु हैं। इनमे शल्‍क पाया जाता है, श्‍वसन फेफड़ों द्वारा होता है। ह्रदय सामान्‍यत: त्रिकक्षीय होता है। अपवाद – मगरमच्‍छ का ह्रदय चार कक्षीय होता है। उदाहरण- कछुआ, सॉंप,छिपकली, मगरमच्‍छ आदि।

पक्षी(Birds)
ये समतापी प्राणी हैं। इनका हृदय चार कक्षीय होता है। इनमें श्‍वसन फेफड़ों द्वारा होता है। जैसे- इनमे सभी पक्षी वर्ग आते हैं।

स्‍तनपायी(Mammals)-
ये समतापी प्राणी हैं। इस वर्ग के जंतु शिशुओं को जन्‍म देने वाले होते हैं। अपवाद- एकिडना, प्‍लेटिपस अंडे देते हैं। इनका हृदय चार कक्षीय होता है।

Classification Quiz

25. कंगारू जैसे स्‍तनपायी जिस थैली में अपने बच्‍चे को लेकर रहते हैं, उन्‍हे क्‍या कहते हैं।
उत्‍तर- मार्सूपियम थैली

26. वर्गीकरण के जनक कौन हैं।
उत्‍तर- केरोलस लीन‍ियस इनका जन्‍म स्‍वीडन में हुआ था। इनकी एक किताब है जिसे ‘सिस्‍टेमा नेचुरी’ कहा जाता है।

Questions on Diversity in Living Organisms
27. नामपद्धति के लिए किन-किन विशेष बातों पर विचार किया जाता है।
उत्‍तर- 1. जीनस का नाम अंग्रेजी के बड़े अक्षर से शुरू होना चाहिये।
2.प्रजाति का नाम छोटे अक्षर से शुरू होना चाहिये।
3.छपे हुए रूप में वैज्ञान‍िक नाम इटैलिक से लिखे जाते हैं।
4.जब इन्‍हें हाथ से लिखा जाता है तो जीनस और स्‍पीशीज दोनो को अलग-अलग रेखांकित कर दिया जाता है।

28. द्विपद नाम पद्धति के जनक कौन हैं।
उत्‍तर- केरोलस लीन‍ियस इसके जनक हैं इसके अनुसार पहला नाम जीनस और दूसरा स्‍पीशीज का होता है।

Important Facts

  • यूनानी विचारक अरस्‍तु ने जीवों का वर्गीकरण उनके स्‍थल, जल एवं वायु में रहने के आधार पर किया था।
  • केंद्रकयुक्‍त कोशिकाओं में बहुकोशिक जीव के न‍िर्माण की क्षमता होती है। इसलिए
    कोशिकीय संरचना और कार्य वर्गीकरण का आधारभूत लक्षण है।
  • सभी जीवधारियों को उनकी शारीरिक संरचना और कार्य के आधार पर पहचाना जाता है और उनका वर्गीकरण किया जाता है।
  • जैव विकास की अवधारणा को सबसे पहले चार्ल्‍स डार्विन ने 1859 में अपनी पुस्‍तक
    ‘दि ओरिजिन ऑफ स्‍पीशीज’ में दिया था।
  • थैलोफाइटा, ब्रायोफाइटा और टेरिडोफाइटा में नग्‍न भ्रूण पाये जाते हैं, जिन्‍हें बीजाणु कहते हैं। इनमें तीन समूह के पौधों में जननांग अप्रत्‍यक्ष होते हैं तथा इनमे बीज उत्‍पन्‍न करने की क्षमता नहीं होती है। अत: ये क्रिप्‍टोगैम कहलाते हैं।
  • वे पौधे जिनमें जनन ऊतक पूर्ण विकसित एवं विभेदित होते हैं तथा जनन प्रक्रिया के पश्‍चात् बीज उत्‍पन्‍न करते हैं, फैनरोगैम कहलाते हैं।

To Know more about Biology you can visit this site
https://www.britannica.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *